Friday, October 19

Art

Culture of bastar chhattisgarh

Art, Art And Culture, Bastar Band, Uncategorized
Tribals of Bastar :  The land of tribes and about 70% of the total population of Bastar comprises tribals, which is 26.76% of the total tribal population of Chhattisgarh. The major tribes of the Bastar region are the Gond, Abhuj Maria, Bhatra Bhatra are divided into Sub Cast San Bhatra, Pit Bhatra, Amnit Bhatra Amnit Hold Highest Status, Halbaa, Dhurvaa, Muria and Bison Horn Maria.  The tribes of Bastar region are known for their unique and distinctive tribal culture and heritage in all over the world.  The Gonds of Bastar are one of the most famous tribes in India, known for their unique Ghotul system of marriages. Gonds are also the largest tribal group of central India in terms of opulation. Each tribe has developed its own dialects and differs from each other in their costume, eating
धोकरा धातु कला  – छत्तीसगढ़ की 4000 साल पुरानी आदिवासी मूर्तिकला

धोकरा धातु कला – छत्तीसगढ़ की 4000 साल पुरानी आदिवासी मूर्तिकला

Art, Art And Culture
धोकरा धातु कला छत्तीसगढ़ राज्य की एक लोकप्रिय मूर्तिकला है l मुख्यतः धोकरा धातु कला राज्य के बस्तर और रायगढ़ जिले में प्रचिलित है I धोकरा धातु कला का नाम वहाँ के आदिवासी समुदाय डामर के नाम पर पड़ा है l धोकरा कला 4000 वर्ष पुरानी भारतीय कला है जो आज भी निरंतर जारी है l इस कला का प्रमाण मोहेंन्जो दरो और हड़प्पा की सभ्यता के अध्यन में भी पाया गया है l भारत के अलावा धोकरा धातु कला का प्रमाण चीन , नाइजीरिया , इजिप्ट , मलेशिया और मध्य अमेरिका के इतहास में भी पाया गया है l धोकरा धातु कला में भ्रष्‍ट मोम (lost wax) , पीतल , कांस्य और ताम्बे की मिश्रित धातु का इस्तमाल किया जाता है l पिघले धातु की ढलाई से अक्रुतियां तैयार की जाती है l क्षेत्र के आदिवासी कलाकार धोकरा कला से विभिन्न प्रकार के आकृतिया बनाते है l जिसमे कई प्रकार के पशुओ की मुर्तिया , धातु की घंटिया और अन्य आकर्षित करने वाली आकृति